व्याकरण का विभाग

Head of Department Dean of the Faculty

प्रो. सुजाता त्रिपाठी
प्रोफेसर, व्याकरण विभाग

‘‘मुखं व्याकरणं स्मृतम्’’

भाषाविदों की विभिन्न समस्याओं का असाधारण समाधान केवल व्याकरणशास्त्र के ही अधीन है। व्याकरण शास्त्र के द्वारा भाषा के शब्दों को अनुशासित किया जाता है। संस्कृत व्याकरणशास्त्र के मुख्य आधार महर्षि पाणिनि, महर्षि पतञ्जलि एवं आचार्य कात्यायन है। व्याकरण के कार्यक्षेत्र को मुख्यतः दो विभागों में विभक्त किया गया है- प्राचीनव्याकरण एवं नव्यव्याकरण।

प्राचीनव्याकरण के पाठ्यग्रन्थों में पदच्छेद, अनुवृत्ति, पदकृत्य इत्यादि विषयों की प्रामाणिक तथा सूक्ष्मतम विवेचना की जाती है एवं व्याकरण के अत्यन्त प्रमाणभूत ग्रन्थ अष्टाध्यायी एवं महाभाष्य का साङ्गोपाङ्ग अध्यापन शास्त्री एवं आचार्य के छात्रों को कराया जाता है।

नव्यव्याकरण के पाठ्यग्रन्थों में वैयाकरणसिद्धान्तकौमुदी, लघुशब्देन्दुशेखर, प्रौढ़मनोरमा, परिभाषेन्दुशेखर इत्यादि प्रक्रिया ग्रन्थों के द्वारा सुपरिपक्व विवेचन किया जाता है एवं दार्शनिक सिद्धान्तों का अध्यापन वैयाकरणभूषणसार, वाक्यपदीय, परमलघुमञ्जूषा इत्यादि ग्रन्थों के द्वारा किया जाता है।

विकल्प आधारित पाठ्यक्रम के अन्तर्गत अन्तः सम्बद्ध विषयों का पठन-पाठन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के नियमानुसार किया जाता है।

विभाग में विशिष्टाचार्य एवं विद्यावारिधि की उपाधि हेतु प्रविष्ट शोधच्छात्रों का दिशा निर्देशन आचार्यों के द्वारा किया जाता है एवं उनकें शोध अन्वेषण में सहायता हेतु विविध सङ्गोष्ठियों एवं कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है तथा व्याकरणशास्त्रीय शोध परिचर्चा में अन्तःविभागीय शोधच्छात्रों के द्वारा शोधपत्रों का वाचन भी किया जाता है।

इसके अतिरिक्त व्याकरणविभाग में आधुनिक परिस्थितियों की दृष्टि से छात्रों के बहुआयामी व्यक्तित्व के उत्थान के लिए व्याकरणपरिषद् की स्थापना की गई है। जिसके अन्तर्गत विभिन्न सङ्गोष्ठी, कार्यशाला, शास्त्रार्थ इत्यादि का आयोजन किया जाता है। शास्त्री, आचार्य एवं शोधच्छात्रों की प्रतिस्पर्धाओं का भी समायोजन किया जाता है।

छात्रों की प्रतिभा विकास में विलक्षण योगदान हेतु विभाग के द्वारा संस्कृतसम्भाषण, संस्कृत पत्रकारिता एवं एडवांस्ड संस्कृत पत्रकारिता पाठ्यक्रम भी अत्यन्त सुदृढ़ता से चलाया जा रहा है जिसमें न केवल विद्यापीठीय इच्छुक छात्रों को अवसर प्राप्त होता है अपितु बाह्य छात्रों को भी प्रवेश प्रदान किया जाता है।

अध्ययन सामग्री / संदर्भ

faculty
क्रमांकशीर्षकडाउनलोड
1परीक्षण फ़ाइलडाउनलोड (80.83 KB) pdf

संकाय विवरण

faculty
क्रमांक फ़ोटो नाम विभाग पद
1 जयकान्त सिंह शर्मा प्रो. जयकान्त सिंह शर्मा व्याकरण विभाग प्रोफेसर
2 सुजाता त्रिपाठी प्रो. सुजाता त्रिपाठी व्याकरण विभाग प्रोफेसर
3 राम सलाही द्विवेदी प्रो. राम सलाही द्विवेदी व्याकरण विभाग प्रोफेसर
4 दयाल सिंह डॉ दयाल सिंह व्याकरण विभाग एसोसिएट प्रोफेसर
5 नरेश कुमार बैरवा डॉ नरेश कुमार बैरवा व्याकरण विभाग असिस्टेंट प्रोफेसर
6 धर्मपाल प्रजापत डॉ धर्मपाल प्रजापत व्याकरण विभाग असिस्टेंट प्रोफेसर